भारत निरक्षरता से लड़ रहा है: जावडेकर

नई दिल्ली: पूरी दुनिया में 8 सितंबर को साक्षरता दिवस मनाया जाता है। भारत में भी 52वां साक्षरता दिवस
मनाया जा रहा है। इस अवसर पर मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि उनकी सरकार का विजन है कि जल्द से जल्द भारत से निरक्षरता खत्म किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि भारत को आजाद हुए 70 साल से ऊपर हो गया है, लेकिन अभी तक देश निरक्षरता के चंगुल से बाहर नहीं निकल पाया है। हालांकि इस बात पर संतोष जताया जा सकता है कि भारत में जनगणना के 2011 की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 74 फीसदी लोग साक्षर हैं यानि अभी भी भारत को 26 फीसदी आबादी को साक्षर बनाना है। भारत में सबसे साक्षर राज्य केरल हैं जहां साक्षरता 93.91 फीसदी है वहीं सबसे कम साक्षर वाला राज्य बिहार है जहां साक्षरता 63.82 फीसदी है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़े बताते है कि पूरी दुनिया में चार अरब लोग साक्षर हैं जबकि अभी भी एक अरब लोग निरक्षर हैं। ऐसे  में जागरूकता के लिए विश्व साक्षरता दिवस का महत्व बढ़ जाता है। 1966 में शिक्षा के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए यूनेस्को ने 8 सितंबर को विश्व साक्षरता दिवस मनाने का फैसला किया और तब से विश्व साक्षरता दिवस मनाया जा रहा है। हालांकि अभी भी 101 देश ऐसे हैं जो निरक्षरता के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। भारत भी उनमें से एक है। 

Comments