भारत और रूस ने दोस्ती पर फिर लगाई मुहर

नई दिल्ली: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के बीच हुई बैठक में कई
मुद्दों पर चर्चा हुई। इस दौरान 8 समझौतों पर दस्तखत हुए। दोनों देशों के नेता मीडिया के सामने मुखातिब हुए। प्रधानमंत्री मोदी ने उन्नीसवें वार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए भारत में राष्ट्रपति पूतिन और उनके प्रतिनिधिमंडल का स्वागत किया। मोदी ने भारत-रूस के संबंधों को अद्वितीय बताया। उन्होंने कहा कि रूस के साथ अपने संबंधों को भारत सर्वोच्च प्राथमिकता देता है। उन्नीस शिखर सम्मेलनों के बाद हमारी स्पेशल और रणनीतिक भागीदारी को लगातार नई ऊर्जा और दिशा मिली है। पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति पुतिन के भारत आने से भारत को रणनीतिक दिशा मिली है। पीएम ने बताया कि दोनों देशों के नेताओं ने कई अहम फैसले लिए हैं जो भारत और रूस के संबंधों को और मजबूत बनाएंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि मानव संसाधन विकास से लेकर प्राकृतिक और ऊर्जा स्त्रोतों तक, व्यापार से लेकर निवेश तक नाभिकीय ऊर्जा के शान्तिपूर्ण सहयोग से लेकर सौर ऊर्जा तक, तकनीक से लेकर टाइगर कन्ज़र्वेशन तक, आर्कटिक से लेकर फार ईस्ट तक और सागर से लेकर अंन्तरिक्ष तक भारत और रूस के सम्बन्धों का और भी विशाल विस्तार होगा। पीएम ने कहा कि भारत का अगला लक्ष्य अंतरिक्ष में गगनयान में भारतीय अंतरिक्ष यात्री को भेजना है। भारत के इस मिशन में रूस ने पूरी मदद का भरोसा दिया है। 

Comments