उपराष्ट्रपति ने 'उड़ान' की कमियां गिनाईं

नई दिल्ली: उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू दिल्ली हवाई अड्डे पर जीएमआर ग्रुप के संचालन के 12 वर्ष पूरे
होने पर ‘इकॉनोमिक इम्पैक्ट रिपोर्ट’ और ‘कॉफी टेबल बुक’ का विमोचन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि किसी भी यातायात सेवा के लिए यात्रियों की सुरक्षा सर्वोच्च होनी चाहिए। उपराष्ट्रपति ने दिल्ली हवाई अड्डे पर विश्व मानकों को कायम रखने के लिए हवाई अड्डे के अधिकारियों और जीएमआर के कर्मचारियों की सराहना की। उन्होंने कहा कि दिल्ली हवाई अड्डा राष्ट्र का गौरव है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि सरकारों, नीति निर्माताओं और व्यापारिक कंपनियों को हवाई अड्डों पर यात्रियों को हर तरह की सुविधाएं देनी चाहिए ताकि यात्री तनाव मुक्त होकर यात्रा कर सके। उन्होंने कहा कि घरेलू हवाई संपर्क में सुधार करने और हवाई सेवा को सस्ता बनाने के संबंध में सरकार की कोशिश उस समय तेज हो जाएगी जब हवाई संपर्क के लिए बेहतर बुनियादी ढांचा तैयार होगा। इस तरह की ढांचागत सुविधा विकसित करने के लिए सार्वजनिक और निजी साझेदारी सबसे बेहतर विकल्प है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि आर्थिक विकास के लिए संपर्क महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने कहा कि उड्डयन उद्योग में विकास की अपार संभावनाएं मौजूद हैं। वेंकैया नायडू ने कहा कि ‘उड़ान’ योजना के कारगर कार्यान्वयन से क्षेत्रीय संपर्क विकसित होगा और क्षेत्रीय मार्गों पर सस्ती उड़ानें मुमकिन होंगी। इस कार्यक्रम में नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, जीएमआर ग्रुप के अध्यक्ष ग्रंधी मल्लिकार्जुन राव और उड्डयन सेवा से जुड़े सदस्य मौजूद थे। 


Comments