सेहत पर आयोग की नीति

नई दिल्ली: नीति आयोग ने गैर संचारी रोगों के इलाज के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी के लिए गाइडलाइन
और आदर्श छूटग्राही अनुबंध का मॉडल जारी किया इस मॉडल के तहत सार्वजनिक निजी भागीदारी वाली इकाइयां जिला अस्‍पतालों में खोली जाएंगी। इनमें हृदय रोग, कैंसर और फेफड़ों की बीमा‍री से बचाव और इलाज के इंतजाम होंगे। नीति आयोग ने स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय, राज्‍य सरकारों और स्‍वास्‍थ्‍य सेवा क्षेत्र के प्रतिनिधियों के साथ मिलकर इसे तैयार किया है। गाइडलाइन और आदर्श छूटग्राही अनुबंध जारी किए जाने के अवसर पर नीति आयोग के सदस्‍य डॉ.वी के पॉल और साझेदार एजेंसियों के प्रतिनिधि 
मौजूद थे। कैंसर का प्रभाव घटाना और कीमोथैरेपी और हारमोन थैरेपी के जरिए इलाज करना। इसी तरह सांस के रोग के प्रभाव को घटाने के लिए दवाइयों के जरिए आपात चिकित्‍सा प्रबंधन करना। इसी तरह दिल की बीमारी के प्रभाव को कम करने के लिए एनजियोग्राफी-एनजियोप्‍लासटी और दवाइयों के जरिए 
आपात चिकित्‍सा प्रबंधन करना। ये सुविधाएं सार्वजनिक जन भागीदारी के तहत एकल साझेदार या निजी साझेदारों के एकल समूह द्वारा उपलब्‍ध कराई जाएगी।


Comments