योग पर सेमिनार, कई देशों ने की शिरकत

उत्तर प्रदेश: कानपुर में योग पर एक सेमिनार आयोजित किया गया। जिसमें बोलते  हुए केंद्रीय आयुष राज्य
मंत्री श्रीपद नाईक ने कहा कि योग ने भारत ही नहीं बल्कि दुनिया को जोड़ा है। उन्होंने कहा कि योग भारत की पुरानी विरासत है। नाईक ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से चार साल पहले संयुक्त राष्ट्र में एक प्रस्ताव पारित कर 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का दर्जा दिया गया। नाईक ने कहा कि दुनिया के 177 देशों ने न केवल इस प्रस्ताव का समर्थन किया बल्कि 21 जून, 2015 को अपने-अपने देशों में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भारत ने दो विश्व रिकॉर्ड बनाए। पहला दिल्ली में सबसे ज्यादा लोगों ने एक साथ योग किया और दूसरा कई देशों के लोगों ने दिल्ली में एक साथ योग किया। नाईक ने कहा कि सरकार ने योग और आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए कई अहम कार्यक्रम शुरू किए हैं। इससे पहले बीजेपी के वरिष्ठ नेता और सांसद डॉ मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि योग और वैश्वीकरण को आपसी तालमेल के साथ मानवता के हित में काम करना होगा। सेमिनार में नेपाल, भूटान, बांग्लादेश और नीदरलैंड सहित दुनिया के आधा दर्जन से ज्यादा योग विद्वानों ने भाग लिया। 

Comments