जम्मू-कश्मीर: सांबा सेक्टर में विस्फोट, BSF के तीन जवान घायल
NDA के खिलाफ विपक्षी पार्टियों की 22 नवंबर को होने वाली बैठक स्थगित। जेट एयरवेज के लिए कोई बेल-आउट पैकेज नहीं- सुरेश प्रभु। झारखंड के 18 जिले सूखाग्रस्त घोषित। बेंग्लुरु में 5 हजार किसानों ने प्रदर्शन किया। सुप्रीम कोर्ट में SIT ने जकिया की याचिका का विरोध किया, जकिया ने गुजरात हाईकोर्ट के उस फैसले को चुनौती दी है जिसमें 2002 के दंगे में मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी को क्लीनचिट दी गई है। NIA ने अमृतसर निरंकारी डेरे पर हमले की जगह का निरीक्षण किया। कानपुर के IIT के चार प्रोफेसर के खिलाफ SC-ST एक्ट के तहत मामला दर्ज। अल्जीरिया की फुटबॉल टीम ने टोगो को 4-1 से पराजित कर अगले साल कैमरून में होने वाले अफ्रीकन कप ऑफ नेशंस के लिए क्वालीफाई कर लिया है। विश्व मुक्केबाजी महासंघ ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप में खराब व्यवहार के चलते बुल्गारिया के कोच पेटार योसिफोव की मान्यता रद्द कर दी है।
भारत के संविधान के निर्माण में 2 साल 11 महीना और 18 दिन का समय लगा था। शुरू में 395 अनुच्छेद 22 भाग और 8 अनुसूचियां थीं। संविधान सभा के कुल सदस्यों की संख्या 389 थी जिनमें 292 ब्रिटिश प्रांत 93 देसी रियासत और 4 कमिश्नर क्षेत्र के प्रतिनिधि शामिल थे। संविधान सभा का पहला अधिवेशन 9 दिसंबर 1946 को हुआ जिसकी अध्यक्षता डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा ने की थी। डॉ. राजेंद्र प्रसाद को 11 दिसंबर 1946 को संविधान सभा का स्थायी अध्यक्ष चुन लिया गया।
मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन, राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह, त्रिपुरा के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी, मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय, झारखंड की राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू।

#MeToo का असर, खुल रही पोल !

#MeToo अभियान पोल खोल बन गया है। कई लोग हैं जिनके चेहरे से शराफत का मुखौटा उतर गया है। केंद्रीय
मंत्री एम जे अकबर पर यौन शोषण के आरोप लगने के बाद केंद्र सरकार हरकत में आई है। फिलहाल एम जे अकबर से इस्तीफा ले लिया गया है। वहीं सरकार ने #MeToo के जरिए सामने आए आरोपों की जांच के लिए तीन सदस्यीय टीम गठित की है। इस टीम की अध्यक्षता गृहमंत्री राजनाथ सिंह करेंगे वहीं महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को इसका सदस्य बनाया गया है। ये समिति तीन महीने के अंदर में अपनी रिपोर्ट देगी। जिसके बाद सरकार आगे की कार्रवाई करेगी। हालांकि #MeToo के दायरे में जो लोग आए हैं उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार किया है। लेकिन  #MeToo अभियान को महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों को पत्र लिख कर महिला सुरक्षा की बात उठाई है। उधर बॉलीवुड में यौन शोषण को लेकर प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ इंडिया काफी सख्त हुआ है। उसने महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक समिति भी बनाई है। मगर सवाल ये उठता है कि जब महिलाएं खुलकर अपने ऊपर हुए अत्याचारों को बता रही हैं तभी प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ इंडिया को महिला अभिनेत्रियों की सुरक्षा का ध्यान क्यों आया। यदि तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर आरोप नहीं लगाया हुआ होता तो न तो अकबर इस्तीफा देते और न ही प्रोड्यूसर्स की संस्था समिति गठित करती। बॉलीवुड में कुछ नाम हैं जो अपनी करतूतों के चलते बदनाम हैं। पत्रकारिता के महान अकबर तो कोर्ट चले गए। वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ  अपने ऊपर लगे आरोप को सफाई दे-देकर धोने की कोशिश में जुटे हैं। न जाने ऐसे कितने पत्रकार हैं जिन्होंने अपनी मर्यादा लांघी है। वहीं मर्यादा लांघने में बॉलीवुड पहले से ही बदनाम है। बॉलीवुड में भी कई नाम हैं जिन्होंने धमकी दी है कि उनकी छवि को खराब करने के लिए वो कोर्ट जाएंगे। यानि #MeToo कैंपेन को कानून का डर दिखाया जा रहा है। मगर यहां सवाल ये है कि #MeToo किसी एक व्यक्ति विशेष को टारगेट करके नहीं चलाया जा रहा है, ऐसे में कोर्ट को भी #MeToo के सभी पहलुओं पर गौर करना होगा, वरना सालों से दबी बात दबकर ही रह जाएगी। कहने वाला कहता रहेगा तू अबला है और अबला ही रहेगी। ऐसे में कोर्ट और सरकार के ऊपर महिला सुरक्षा को लेकर बड़ी जिम्मेदारी है। बॉलीवुड कास्टिंग काउच के लिए पहले से बदनाम है। कुछ ऐसा ही हाल पत्रकारिता का भी है। वैसे देखा जाए तो हर सेक्टर में ऐसे खलनायक मिल जाएंगे जो महिलाओं को सिर्फ एक खिलौना समझते हैं। फिल्म डायरेक्टर सुभाष घई की फिल्म खलनायक का ये डायलॉग याद आता है
नायक नहीं खलनायक हूं मैं, जुल्मी बड़ा दुखदायक हूं मैं
ये बॉलीवुड के उन नायकों के लिए काफी फिट बैठता है जो हीरोइन के शरीर से खेलकर उसकी जिंदगी दुखदायक बना देते हैं। ये बॉलीवुड के कुछ नाम हैं जिन पर आरोप ऐसा लगा है जिस पर हर कोई हैरान है। जितेंद्र, जैकी श्रॉप, आदित्य पंचोली, दिबाकर बनर्जी, राजेश खन्ना, शाइनी आहूजा, अंकित तिवारी, मधुर भंडारकर, ओम पुरी, इरफान खान, नाना पाटेकर, आलोक नाथ, रजत कपूर, वरूण ग्रोवर, चेतन भगत,विकास बहल, सुभाष घई, अनूप जलोटा, अन्नू मलिक, अभिजीत, साजिद खान, विवेक अग्निहोत्री , महमूद फारुकी समेत कई नाम है। आप गिनते-गिनते थक जाएंगे, लेकिन खलनायकों की फेहरिस्त खत्म नहीं होगी। लेकिन धन्यवाद उस हॉलीवुड अभिनेत्री का, जिसने अपने ऊपर हुए यौन शोषण का खुलासा #MeToo  के जरिए करके महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक मजबूत पहल की है। हॉलीवुड एक्ट्रेस एलिसा मिलानो ने 2017 के अक्टूबर महीने में #MeToo के जरिए अपने साथ हुए यौन शोषण का खुलासा किया था। फिल्म निर्माता हार्वी वाइंस्टाइन, अभिनेता केविन स्पेसी समेत कई हॉलीवुड हस्तियों पर यौन शोषण के आरोप लगे। हॉलीवुड से होता हुआ #MeToo भारत आया है। उम्मीद की जा रही है कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में ये पहल भी मील का पत्थर साबित होगी। 

Comments

छायावादी कवि: जयशंकर प्रसाद (1890-1937)- कामायनी, आंसू, लहर, झरना, चित्राधार, उर्वशी, वनमिलन, प्रेम राज्य, करुणालय, कुसुम, अयोध्या का उद्धार।