NIT के हीरक जयंती समारोह का उदघाटन

तेलंगाना: उपराष्‍ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने वारंगल स्थित NIT के हीरक जयंती समारोह का उदघाटन किया । 
इस अवसर पर उपराष्ट्रपति ने कहा कि विज्ञान और टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल मानव के कल्याण के लिए होना चाहिए। उन्होंने कहा कि NIT को नवाचार पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। ये एक ऐसा मंत्र है जो संस्थान, समाज और देश को आगे ले जाएगा। नायडू ने कहा कि नवाचार भारत की जरूरत है। इसको अनदेखा नहीं किया जा सकता है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि वर्ष 2025 तक भारत विश्‍व के तीसरे सबसे बड़े उपभोक्‍ता बाजार के रूप में उभरने को प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि भारत 2025 तक 5 ट्रिलियन डॉलर वाली अर्थव्‍यवस्‍था बनने के लिए प्रतिबद्ध है। उपराष्ट्रपति ने बताभाया कि कई देश भारत में निवेश को लेकर दिलचस्पी दिखा रहे हैं। ऐसे में भारत का नवाचार की दिशा में आगे बढ़ना विकास की ओर बढ़ना होगा। उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि आज का नवाचार आगामी 20 वर्ष को ध्‍यान में रखते हुए होना चाहिए। यह नवाचार स्‍वच्‍छ और हरित होना चाहिए। इस दौरान उन्होंने वारंगल की स्मार्ट सिटी के दर्ज की सराहना की। नायडू ने उम्मीद जताई कि NIT से निकले इंजीनियर ग्रामीण इलाकों के विकास में अपना योगदान देंगे। इस अवसर पर NIT के निदेशक प्रोफेसर रामना राव, अंतर्राष्‍ट्रीय संबंध और पूर्व-छात्र मामले के डीन प्रोफेसर के.वी. जयकुमार,  कुलसचिव गोवर्धन राव समेत बड़ी संख्या में छात्र मौजूद थे।            




Comments