राष्ट्रपति से मिले UNO के महासचिव

नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ
कोविंद से मुलाकात की। जहां उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया। UNO का महासचिव बनने के बाद गुटेरेस का ये पहला भारत दौरा है। ऐसे में इस दौरे के महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता। यही वजह है कि भारत ने राष्ट्रीय स्वच्छता पखवाड़े के अवसर पर UNO महासचिव का इस कार्यकम में सहभागी बनने बेहद महत्वपूर्ण अवसर माना जा रहा है। गुटेरेस का स्वागत करते हुए राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन,  स्वच्छता सम्मेलन और स्वच्छ भारत अभियान की चौथी वर्षगांठ पर उनकी सहभागिता के प्रति भारत आभारी है। राष्ट्रपति ने महात्मा गांधी की विरासत को पूरी दुनिया में प्रचार-प्रसार करने के लिए गुटेरेस की तारीफ की। कोविंद ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत में कई बदलाव हुए हैं जिसमें डिजिटल तकनीक और समावेशी विकास नीतियों का काफी योगदान है। इनमें महिला-पुरुष सशक्तिकरण, स्वच्छता, वित्तीय समावेशों, 250 मिलियन से अधिक लोगों को स्वच्छ भोजन पकाने के लिए कुकिंग गैस उपलब्ध कराना, 50 मिलियन लोगों के लिए स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराना और देश के लाखों
घरों तक बिजली पहुंचाना शामिल हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने दिल्ली में ही एक समारोह के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'चैंपियन ऑफ द अर्थ' अवॉर्ड से सम्मानित किया। इस अवसर पर केंद्रीय विज्ञान और टेक्नोलॉजी, पृथ्वी विज्ञान और पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन भी मौजूद थे। बता दें कि जब नरेंद्र मोदी सरकार सत्ता में आई तब प्रधानमंत्री बनने पर मोदी ने सबसे पहले स्वच्छता पर ध्यान दिया। उन्होंने इस आंदोलन बनाने की कोशिश की। उनके चार सालों की सक्रियता का असर है कि अब आम जनता भी साफ-सफाई को लेकर जागरूक हो रही है। 25 सितंबर से लेकर 2 अक्टूबर तक स्वच्छता ही सेवा है संकल्प के साथ स्वच्छता अभियान पखवाड़ा मनाया गया। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन 25 सितंबर से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिन तक स्वच्छता ही सेवा है के संकल्प को और मजबूत बनाया। राष्ट्रपिता को साफ-सफाई पसंद थी। जाहिर है मोदी सरकार ने स्वच्छता अभियान चलाकर राष्ट्रपिता को सच्ची श्रद्धांजलि दी है। 

Comments