लखनऊ में रेल मंत्री पीयूष गोयल का विरोध, रेलवे यूनियन के कार्यक्रम में गए थे, उनके भाषण के बाद हंगामा, कार्यक्रम बीच में ही छोड़ कर पीयूष गोयल को जाना पड़ा
आंध्र प्रदेश: मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने बिना इजाजत प्रदेश में सीबीआई अधिकारियों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। सबरीमाला विवाद: प्रदर्शनकारियों ने सामाजिक कार्यकर्ता तृप्टि दे्साई को कोच्चि हवाई अड्डे से बाहर नहीं निकलने दिया। तृप्टि देसाई सबरीमाला मंदिर जाने वाली थीं। पंजाब नेशनल बैंक के पूर्व उपप्रबंधक पर आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज। चक्रवाती तूफान गाजा पहुंचा तमिलनाडु, 11 की मौत। भारत की मुक्केबाजी विश्व कप मेजबानी खतरे में।
भारत के संविधान के निर्माण में 2 साल 11 महीना और 18 दिन का समय लगा था। शुरू में 395 अनुच्छेद 22 भाग और 8 अनुसूचियां थीं। संविधान सभा के कुल सदस्यों की संख्या 389 थी जिनमें 292 ब्रिटिश प्रांत 93 देसी रियासत और 4 कमिश्नर क्षेत्र के प्रतिनिधि शामिल थे। संविधान सभा का पहला अधिवेशन 9 दिसंबर 1946 को हुआ जिसकी अध्यक्षता डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा ने की थी। डॉ. राजेंद्र प्रसाद को 11 दिसंबर 1946 को संविधान सभा का स्थायी अध्यक्ष चुन लिया गया।
मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक।

फिर सरहद पर मोदी ने मनाई दिवाली

हर्शिल (उत्तराखंड):  अपने पांच साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राजधानी दिल्ली
से बाहर दिवाली मनाई। ये चौथी दफा है जब वो दिवाली में सरहद पर तैनात जवानों के साथ दिवाली मनाई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड के हर्शिल में भारतीय सेना और ITBP के जवानों के साथ दिवाली मनाई। इस अवसर उन्होंने जवानों को मिठाई खिलाकर दिवाली को सेलिब्रेट किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने जवानों को शुभकामना दी। पीएम ने जवानों के शौर्य और साहस की तारीफ की। उन्होंने कहा कि जवान सुदूर बर्फीली चोटियों पर देश की सुरक्षा में लगे हैं। तमाम कठिनाइयां हैं फिर भी अपने देश की सुरक्षा के लिए सीमाओं पर डटे हैं ताकि दुश्मन देश भारत माता की एक इंच जमीन पर कब्जा न कर ले। पीएम ने कहा कि जवान देश के प्रति अपना कर्तव्य निभा रहे  हैं। उन्होंने आगे कहा कि जवान न सिर्फ देश की सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं बल्कि 125 करोड़ भारतीयों के भविष्य और सपनों की सुरक्षा भी कर रहे हैं। पीएम ने कहा कि दिवाली रोशनी का त्योहार है, यह अच्छाई की रोशनी फैलाता है और डर को दूर भगाता है। पीएम ने कहा कि कहा कि जवानों की मौजूदगी देश के लोगों में सुरक्षा और निडरता की भावना पैदा करता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत तेजी से रक्षा क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने पूर्व सैनिकों के कल्याण के लिए उठाए जा रहे कई उपायों की जानकारी जवानों को दी। आपको बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी ने सियाचिन में जवानों के साथ दिवाली मनाई थी। 2015 यही एक ऐसा साल है जब प्रधानमंत्री दिवाली मनाने के लिए दिल्ली से बाहर नहीं गए। उन्होंने ट्वीट कर देशवासियों को दिवाली की शुभकामनाएं दी थी। 2016 में पीएम ने हिमाचल प्रदेश में चीन से सटे इलाके में जवानों के साथ दिवाली मनाई। 2017 में उन्होंने जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में जवानों के साथ दिवाली मनाई थी। उन्हें अपने हाथों से मिठाई खिलाई थी और बधाई दी थी।  

Comments